दुनिया के सबसे तेज रेल नेटवर्क से अब भारत भी दुनिया के साथ कदम ताल मिलाएगा। 2014 लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान पीएम मोदी ने बुलेट ट्रेन का जो सपना दिखाया था वह अब साकार होने जा रहा है। इसके बाद भारत भी हाईस्पीड ट्रेन वाले देशों की कतार में शामिल हो जाएगा। गुरूवार को पीएम मोदी और जापानी समकक्ष शिंजो गुजरात के साबरमती में मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना की आधारशिला रखने जा रहे हैं। परियोजना अगले पांच साल में तैयार होने की उम्मीद है। परियोजना देश की 75 वीं वर्षगांठ पर 15 अगस्त,2022 तक देश को समर्पित कर दी जाएगी।

पूरी परियोजना एक नजर में-

बुलेट ट्रेन परियोजना 1.1 लाख करोड़ से तैयार होगी ।

लंबाई- 508 किमी
औसत स्पीड – 250 किमी प्रति घंटा
अधिकतम स्पीड – 320 किमी प्रति घंटा
यात्रा समय : दो घंटे (मौजूदा ट्रेनें: 7 घंटे)
किराया- 3-5 हजार रुपये90 हजार करोड़ जापान से ऋण
0.1 फीसदी के मामूली ब्याज पर
15 साल के बाद पुनर्भुगतान शुरू
50 साल में चुकाना है ऋण
20 हजार कंस्ट्रक्शन रोजगार
20 हजार अप्रत्यक्ष रोजगार
750 लोग एक बार में करेंगे सफर
36 हजार लोग रोज करेंगे सफर